पूर्व सीएम व नेता प्रतिपक्ष भूपेंद्र सिंह हुड्डा बोले:बीजेपी-जेजेपी सरकार हर मोर्चे पर विफल साबित हुई, इससे आज हर वर्ग परेशान

By | February 9, 2022

हुड्डा ने कहा कि 5100 रुपए पेंशन का वादा कर सत्ता में आईं पार्टियां अब पेंशन में कटौती कर रही हैं। पेंशन को फेमिली आईडी से जोड़कर अभी तक हजारों बुजुर्गों की पेंशन काट दी गई।

पूर्व सीएम और नेता प्रतिपक्ष भूपेंद्र सिंह हुड्डा ने बीजेपी-जेजेपी सरकार पर निशाना साधते हुए कहा कि यह हर मोर्चे पर विफल साबित हुई है। चाहे बुजुर्ग, विधवा और विकलांग पेंशन की बात हो या 75 प्रतिशत निजी क्षेत्रों में नौकरियों, किसानों की समस्याओं ,अस्पतालों, स्कूलों और कर्मचारियों की। हर मामले में सरकार विफल रही है। इससे आज हर वर्ग परेशान है। पूर्व सीएम ने कहा कोरोना काल में खूब घोटाले हुए हैं। चाहे पेपर लीक का मामला हो या फिर शराब घोटाला। नगर निगम में घोटाला हो या पकड़े गए करोड़ों रुपए का। पूर्व सीएम ने वरिष्ठ नेता जगन डागर के निवास पर पत्रकारों से वार्ता करते हुए आरोप लगाया कि सरकार बुजुर्गों की पेंशन खत्म करने की नीति पर आगे बढ़ रही है। प्रदेश में पेंशनधारकों को अभी तक दिसंबर और जनवरी की पेंशन नहीं मिली है।

हुड्डा ने कहा कि 5100 रुपए पेंशन का वादा कर सत्ता में आईं पार्टियां अब पेंशन में कटौती कर रही हैं। पेंशन को फेमिली आईडी से जोड़कर अभी तक हजारों बुजुर्गों की पेंशन काट दी गई। हुड्डा ने कहाकि बुजुर्ग सम्मान भत्ता बुजुर्गों के बुढ़ापे का सहारा है। इस पर परिवार पहचान पत्र और बेवजह के आर्थिक मापदंडों को थोपना उनका अनादर है। सरकार को पेंशन कटौती और भुगतान में लेटलटीफी की नीति को बंद करना चाहिए। यह सरकार यदि ऐसा नहीं करती है तो भविष्य में कांगऱ्ेस की सरकार बनने पर जिन बुजुर्गों की पेंशन काटी गई है, उसे बहाल किया जाएगा और वादे के मुताबिक उसमें बढ़ोतरी की जाएगी।

प्रदेश सरकार के कामकाज पर हुड्‌डा ने कहा कि हरियाणा का हर महकमा आज कर्मचारियों की किल्लत झेल रहा है, क्योंकि सरकार खाली पदों पर भर्ती नहीं कर रही। आलम यह है कि अस्पतालों में डॉक्टर नहीं हैं और स्कूल-कॉलेजों में टीचर। सरकारी दफ्तरों की बजाए कर्मचारी सड़कों पर हैं, क्योंकि वे भी सरकार की नीतियों से परेशान हैं। कर्मचारी ही नहीं किसान समेत हर वर्ग इस सरकार के विरोध में आंदोलनरत है। किसानों पर सरकार की नीतियों और मौसम की दोहरी मार पड़ रही है। बेमौसम बारिश की वजह से उन्हें नुकसान झेलना पड़ रहा है। लेकिन सरकार की तरफ से मुआवजा देना तो दूर अभी तक पूरी तरह गिरदावरी ही नहीं कराई गई। यहां तक कि पिछले साल का मुआवजा भी अभी तक पेंडिंग है। पूर्व सीएम ने कहा सरकार ने आंदोलनकारी किसानों के साथ भी बड़ा धोखा किया है।

समझौते के बावजूद अभी तक उनके मुकदमे वापस नहीं हुए। इसी तरह देश में सबसे ज्यादा बेरोजगारी झेल रहे प्रदेश के युवाओं के साथ भी सरकार लगातार धोखा कर रही है। हाल ही जारी आंकड़ों के मुताबिक हरियाणा बेरोजग़ारी दर में देशभर में टॉप पर है। लेकिन सरकार संस्थाओं पर ही सवाल उठा रही है। जबकि उत्तरप्रदेश में बीजेपी उन्ही संस्थाओं के आंकड़ों को दिखाकर वोट मांग रही है। हुड्डा ने कहा सरकार प्राइवेट नौकरियों में 75 प्रतिशत आरक्षण का युवाओं के साथ छलावा है। वहीं दूसरी तरफ हरियाणा में डोमिसाइल की शर्त को 15 से घटाकर 5 साल कर दिया गया है। हरियाणा देश का इकलौता ऐसा राज्य है जहां 5 और 15 साल के दो अलग-अलग डोमिसाइल हैं। इससे हरियाणा के युवाओं को फायदा होने की बजाय नुकसान होगा। इस अवसर पर पूर्व मंत्री सुखवीर कटारिया, पूर्व विधानसभा स्पीकर कुलदीप शर्मा, पूर्व विधायक रघुवीर तेवतिया, जगन डागर आदि नेता मौजूद थे।

Leave a Reply

Your email address will not be published.