फूड इंस्पेक्टर और मैनेजर ने राशन कार्ड में हेराफेरी कर लाखों रुपए के राशन घोटाले का मामला उजागर…

By | February 19, 2022

 

समाचार 20 न्यूज

 

मप्र के नर्मदापुरम में राशन कार्ड में हेराफेरी कर लाखों रुपए के राशन घोटाले का मामला उजागर हुआ। यह घोटाला खाद्य विभाग की महिला फूड इंस्पेक्टर और सोसायटी के प्रबंधक ने मिलकर किया। राशनकार्ड में हेराफेरी कर 23 माह तक शासन को 19.15 लाख रुपए की चपत लगाई। मामला साल 2008-2009 का है। 14 साल पुराने घाेटाले में अब कार्रवाई हुई है। महिला कनिष्ठ आपूर्ति अधिकारी कादंबिनी धकाते और हर्ष शिक्षित बेरोजगार मर्यादित सहकारी समिति के प्रबंधक प्रकाश तिवारी निवासी नर्मदापुरम के खिलाफ देहात थाने में केस दर्ज हुआ है। मप्र विनिदिष्ट भ्रष्ट आवरण अधिनियम की धारा 3/33, आईपीसी की धारा 420, 409,467,468 के तहत दोनों को आरोपी बनाया है। कनिष्ठ आपूर्ति अधिकारी मीनाक्षी दुबे के शिकायत पत्र पर पुलिस ने कार्रवाई की है।

14 साल बाद पहले किया घोटाला, अब एफआईआर…..

हेराफेरी और घोटाला 14 साल पुराना है। तब कनिष्ठ आपूर्ति अधिकारी कादंबिनी धकाते नर्मदापुरम(होशंगाबाद) में पदस्थ थी। प्रकाश तिवारी हर्ष शिक्षित बेरोजगार मर्यादित सहकारी समिति का प्रबंधक था। फरवरी 2008 से दिसंबर 2009 तक दोनों ने डोंगरवाडा और कुलामडी की राशन दुकान पर गरीबों के राशन कार्डों में हेराफेरी कर गेहूं, चावल, शक्कर व खाद्य सामग्री में हर महीने घोटाला किया। 23 माह में इन्होंने 19.15 लाख रुपए की गड़बड़ी की। जिसकी शिकायत के बाद इंस्पेक्टर का होशंगाबाद से तबादला हो गया था। 14 साल की लंबी जांच के बाद देर रात को देहात थाने में एफआईआर दर्ज हुई।

 

रतलाम में पदस्थ है फूड इंस्पेक्टर धकाते…..

फूड इंस्पेक्टर कांदबिनी धकाते वर्तमान में रतलाम में पदस्थ है। बताते है रतलाम में भी इंस्पेक्टर मीडिया की सुर्खियों में बनी रहती है। प्रकाश तिवारी के कुछ राशन दुकान है।

 

 

Leave a Reply

Your email address will not be published.